Wednesday, May 22, 2019

Whey protien ke fayde

Whey protein क्या है? इसके फायदे और नुकसान क्या क्या है ।



आजकल हर नए genration के लोग body बनाना चाहते हैं। ज्यादातर लोग gym ,exercise, करते हैं।
Bodybuilding के लिए लोग न सिर्फ gym बल्कि उसके साथ अनेक प्रकार के steroid, medicine और इसी तरह की चीजों का प्रयोग करते हैं।

Bodybuilding के लिए supplements भी अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

तो इसी तरह का एक suplement है whey protien

आज हम whey protien से जुड़ी जानकारी साझा करेंगें।


चलिये पहले जान लेते हैं कि whey protien है क्या ।

अगर आप best beauty tips for hair and skin चाहते है तो यह click करें।



What is whey protien  ।  whey protien क्या है ।

दरअसल whey protien एक तरह का protien supplement है। जो body में protien और nutrition की मात्रा को बढ़ाता है।  हम आपको
Whey protien ke fayde  बताएंगे।

यह हमें अत्यधिक ऊर्जावान बनाता है जिससे हम ताकतवर बनते है  और हम जल्दी नही थकते ।

Whey protien ke fayde in hindi
Whey protien ke fayde


Whey protien दूध से मिलने वाले 20℅ प्रोटीन का प्रोटीन होता है । चूंकि यह दूध से बनता है इसलिए यह पूरी तरह से शाकाहारी होता है।


व्हे प्रोटीन branchd amino acid का बहुत ही अच्छा सोर्स है । इसमे एमिनो एसिड भी भरपूर मात्रा में मिलता है।

आइये अब जानते हैं कि व्हेय प्रोटीन बनता कैसे है।

 How does the whey protien become 



अबतक आपको इतना तो पता चल गया होगा कि whey protien दूध से बनता है ।
 Dairy form से ही इसको बनाते हैं ।
दूध में कुछ एंजाइम्स मिलाये जाते है   जिससे दुध को हम दही और whey के रूप में प्राप्त करते हैं। बाद में मशीनों की सहायता से filtraion की सहायता से एक एक करके अलग कर लिया जाता है।

वजन घटायें सिर्फ कुछ ही दिनों में - weight loss tipshttps://www.krishamhealthcare.com/2018/11/how-to-loss-weight-in-hindi.html?m=1



जहाँ दही से पनीर और  casein protien बनाया  जाता है वही दूसरी तरफ व्हेय से bacteria अलग करके उसको बैक्टीरिया free बनाया जाता है।
 उसके बाद filtration से lactose और fat निकाल दिया जाता है और इसे फिर dry या सूखे रूप में powder form में बनाया जाता है।


Benefits of whey protien - whey protien के लाभ -


Whey protien for gym
Whey protien se body bnaye


Whey protien ke fayde की बात करे तो यह हमारे शरीर मे bodybuilding के काम आता है । इसमें उपस्थित nutrions बॉडी के मसल्स बनाने में सहायता प्रदान करते हैं।

जो लोग शाकाहारी होते हैं या जो अंडे,मांस, मछली, या अन्य से अधिक मात्रा में protien नही ले पाते वो इसका प्रयोग करते हैं और body building करते हैं।
जितना ज्यादा workout करना होगा हमे उतना ही ज्यादा protien और nutrition चाहिए होगा ।


यह हमारे मसल्स बनाता है और साथ मे अगर protien की मात्रा हमारे शरीर मे अच्छी रहे तो  skin,hair, joints, health, fitness सब कुछ बहुत अच्छा रहेगा।



फिट रहने के लिए हमे protien की शख्त जरूरत होती है जो व्हेय protien एक natural form में हमे दिलाता है।

Protien हमे हमारी हड्डियों को मजबूत बनाता है, हमे मजबूती प्रदान करता है।


जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमे विटामिन्स,मिनरल्स, protien इन सब की जरूरत होती है एक healthy life जीने के लिए और whey protien से हमे nutritions और अच्छी क़्वालिटी की natural protien मिलती है।
जो हमारे पूरे शरीर को मजबूती प्रदान करती है।

जो gym जाते हैं उनके लिए खासकर यह बहुत ही ज्यादा उपयोगी और जरूरत की चीज है क्योंकि सिर्फ फलो,सब्जियो से जरूरत की जितनी protien हमें नही मिल सकती।


जानें what is biotin बस एक क्लिक पे


Whey protien के नुकसान -


वैसे तो इसके कोई भी side effect नही होते लेकिन गर्मी में जरूरत से ज्यादा खाने में आपको मुहांसों, दानो आदि का सामना करना पड़ सकता है। चूंकि यह natural hota है इसलिए कोई खास side effect नही होता है इसका बस आप अपनी जरूरत से ज्यादा इसका सेवन न करे।
Overdose आपको थोड़ी बहुत तकलीफ दे सकता है।


आशा करता हु आपको हमारे इस दिए हुए जानकारी से कुछ जानकारी मिली होगी। अगर आपको कुछ भी पूछना या बताना हो तो आप हमें comment करके पूछ/ बता सकते हैं। 

Sunday, May 5, 2019

How to remove sun tan

 मई का महीना और गर्मी धीरे धीरे और  बढ़ने लगी है सूरज की रोशनी के वजह से और गर्मी की वजह से हमारी त्वचा काली पड़ने लगती है इसलिये आज हम आपको बताएंगे कि how to remove sun tan । सूरज की रोशनी ज्यादा देर तक पड़ने की वजह से हमारे त्वचा को काफी नुकसान होता है । जिससे हमारी skin बुरी तरह झुलस जाती है और यह हमारी सुंदरता में भी एक दाग की तरह बनता जाता है।

How to remove sun tan


तो चलिए जान लेते हैं कि how to remove sun tan
अर्थात sun tan को कैसे हटाये ।

1-  use sunscreen -

https://krishambeauti.blogspot.com/2018/04/sunscreen-how-to-select.html?m=1( sunscreen की अधिक जानकारी के लिये ये भी पढ़ें)



हमने आपको पहले भी बताया है कि धूप में निकलने से पहले आपको एक अच्छे company का sunscreen जरूर लगाना चाहिए । यह हमारी त्वचा के ऊपर एक परत (layer) बना देता है।  जिससे सूरज की किरणें हमारी त्वचा पर सीधा असर नही डाल पाती।
Sunscreen for sun tan remove




2- yogurt and tomato ( दही और टमाटर) -


 हम बहुत पहले से इसका प्रयोग सुंदरता के लिए करते आये हैं।
और suntanning में भी यह उतना ही लाभकारी है । यह त्वचा के कालेपन को हटाने से लेकर त्वचा में नई जान डालने तक मे बहुत लाभदायक है।

Yougurt and tomatoes for sun tan remove


दही और टमाटर को मिला के face पे 30minute तक हफ्ते में 4,5 बार जरूर लगायें।


अगर आप कील,मुहांसों से परेशान हैं तो ये पढ़े
https://www.krishamhealthcare.com/2019/03/How-to-cure-the-pimple.html



3- chandan ( चंदन) - 


सभी जानते हैं कि चंदन हमारे शरीर को ठंढक पहुंचाता है और गोरापन लाता है।
चंदन को रोज 40 मिनट लगा के छोड़ देने से न सिर्फ कालापन दूर होता है बल्कि यह त्वचा को मुलायम, निखारना और सुंदरता भी प्रदान करता है।



4- कच्चा दूध - (milk) - 


कच्चा दूध त्वचा की मृत पड़ी dead skin को हटाके नई और sunder त्वचा लाता है और  sun tan को दूर करके त्वचा को निखरता है ।
अगर sun tan न भी हो तो इसको रोज लगाने से आप गोरा, खिला खिला व सुंदर बन सकते हैं ।
यह त्वचा में जमी गंदगी को हटाके उसको साफ करता है।

Sun  tanning removal


best beauty tips के लिए ये पढें
https://www.krishamhealthcare.com/2019/02/best-beauty-tips.html



5- केला - 


पके हुए केले के गूदे को sun tan से प्रभावित जगह पे lgaane से भी त्वचा का रंग फिर से निखरने लगता है। यह बहुत ही लाभकारी है.




तो ये कुछ घरेलू नुस्खे हैं how to remove sun tan के लिए 

आशा करता हु की आपको यह post पसंद आयी होगी अगर आपको कुछ भी और जानकारी चाहिए या पूछना हो तो comment box में comment करके हमसे पुछ सकते हैं।

हमने इस पोस्ट में आपको घर मे पाए जाने वाले आसान नुस्खे ही बताये हैं।

Saturday, March 16, 2019

How to cure the pimple

Pimple and acne are the most common problem of many peoples.

In a research there is 80-85% people who are suffering from pompesp and acne.

Symptoms include pesky pimple which can be very frustafrust and very difficult to get rid of.




 There are so many tricks to get rid of  like laser treatment, allopathic medicine,natural ways and many more.

But we will provide you best and natural way to get rid of.

We will give you some information for how to cure the pimple .



Here we will tell you most common and best 5 solution to cure pimples at your own place.

1- ALOEVERA




Alovera is a most effective natural thing which is very useful for glowing skin and cure pimples and acnes .

Alovera is a topical plant with leaves that produce a ckear gel.


How to use of ALOEVERA -


Scrape the get out of the alovera leleaves with a spoon .

- Apply  alovera gel on the skin you can use on full face or skin and gently massage with very lightly with fingers.

- You cam wash after 1,2 hours
Or you can leave this overday or night.

- Repeat minimum 2-3 times in a day .


2- Facepack of neem,honey, cinnamon powder,and coconut oil





This is very effective facepack who can remove your pimple and it can be very useful for glowing and fare skin.
Its prooven that honey and neem both are most effective anti-bacterial thing .


How to use it -


Firstly you have to take galf spoon coconut oil then mix 1/4 of a spoon to cinnamon powder. Make a paste of these thing then mix half spoon of honey and mix it very well after that you have to mix neem powder or leaf ( best thing is that take 5-7 neem's leaf and grind it )

Then mix these all thing in a bowl and use on your skin for 30-45 minutes
Then wash it with normal water

. Use this 3 times in week.


3 - clean your face -




If your face is fulfill with dust it will give you more skin deseases like acne,pimple,ringworm and many more.

So always wash your face with pure water and rub your face with a antibacterial shop or facewash which is usefull in clearness of your skin.

Wash your face minimmm 2-4 time in a day with very gently massage.

Now pollution is so mch  and there are many things who can destroy your skin
So always clear your skin.

4-  Drink water and protect your skin with sunlight -



If you want to get rid of your skin problems then you have to drink tge water more and more.

Minimum 8-10 glass of water is a good amount to take .

Hydrate your body with pure water is a very good thing to help to get rid of your skin problem.


There are lot of deseases who can be cure with water .

Use sunscreen and stay away from sunlight

Sunlight is a very dangerous thing which can effect your skin and damage your skin.
Sunburn is also a problem of many people.

Use good quality of sunscreen
And dontd go in direct sunlight



5- take zinc rich multivitamins -




Zinc is very helpful to get rid of bacterial problems.
So eat zinc rich food and supplements
And take multivitamins  for your full body health.

 I give you 5 magical trick which is very helpful in cure the pimples.
I hope these information are very effective for yours .

If you have any query please comment












Wednesday, February 27, 2019

Best beauty tips

Every girl wants fair and healthy skin.

So we are telling some very good and easy way to boost your fairness and health via best beauty tips.


We all wants to look fair and beautiful.
 but due to pollution, work, stress, improper diet,driking and smoking habbits or climatic conditions not every girl is able to maintain her skin fair and glowing. So guys today i am here with you to share some tips to make you skin healthier.



You can follow these simple tips with your busy schedule for making you skin much glower than ever before.


Stay hydrated-




Water plays an important role in day to day life but do you know its also vital for our skin to glow.so drink upto 6-8 glasses everyday for glowing skin.But sometimes due to busy schedule you may forget drinking water,to solve this problem you can set remainder in your phone.
Water is on of the best in tips for glowing skin.


Apply moisturizer




 on skin-your skin may become dry in winters or those having dry skin can apply moisturizers.For this purpose you can use moisturizers available in market or can use home-made products like almod oil,coconut oil etc.And you can also make your own moisturizer at home.

Avoid using scents(perfume) or chemically manufactured soaps.



It will damage your skin and lead to skin problems
Avoid makeup at night-Before going to bed bemove your makeup as the makeup products may damage your skin.For this you can use rose water,the best way to apply rosewater on skin is put some rose water on cotton plug then gently rub it over your face.


Take diet rich in nutients




 like fruits(that contain antioxidants), vegetables, pulses, carbohydrates,fats(yes fats also important for skin health)these all must be a part of your diet beside this you can add curd, milk or any other dairy product to your diet.


To remove skin fat you just have to follow a simple step-





In the morning,take one glass warm water, add one tea spoon of honey and few drops of lemon in it.Mix well then drink.
This will reduce you face fat within 2 weeks.

Jogging -




If you are more conscious about your skin health then you can do exercises or yoga also but on routine basis.I am sure your skin will look glower and fairer by just following these simple steps.
I hope you like the above provided information please use it and tell me about your experience.

Sunday, December 2, 2018

Asthma ke liye yoga

अस्थमा जिसका इलाज हम आज
Asthma ke liye yoga के रूप में जानेंगे
जैसा कि सभी जानते हैं कि आजकल जैसे जैसे प्रदूषण बढ़ रहा है वैसे वैसे अस्थमा के रोगी भी बढ़ते जा रहे हैं चूँकि यह जड़ से रोग दूर नही किया जा सकता इसलिए इस नियंत्रित करने के लिए अलग अलग तरीको का प्रयोग करते हैं ।
इनमे से Asthma ke liye yoga भी एक सरल और कारगर उपाय है।
हम सभी जानते हैं कि योग हमारे देश मे कई युगों से चलता आ रहा है । ये ना सिर्फ अस्थमा के लिए बल्कि लगभग हर बीमारियों में इसका बहुत ही ज्यादा लाभ है ।

How to loss weight in hindi | जल्दी से वजन कैसे घटाएं



तो चलिए पहले जानते हैं कि

1- अस्थमा क्या होता है ।

2- अस्थमा कैसे होता है ।

3- अस्थमा में बचाव कैसे करें ।


और भी बहुत सी  खास जानकारी ।


1 -             अस्थमा क्या होता है ( what is Asthma )


Asthma kya hai




   Ashtma जिसे हम " दमा " भी कहते हैं वो एक कई तरह की होने वाली एलर्जी  से होने वाली सांस की नालियों या जिससे हम सांस लेते है वायुमार्ग  में होती हैं ।

दमा में  सांस लेने वाली नालियों में संकुचन या जिसे हम सिकुड़ना बोलते हैं वो होने लगता है ।

इससे सांस लेने में परेशानी होने लगती है जिसके वजह से दम घुटने का कारण बनता है ।
और उसी वजह से हमे खांसी , सांस फूलना , सांस ठीक से ना ले पाना , घबराहट आदि होने लगता है ।



2-                           अस्थमा के कारण (  Asthma causes in hindi)


अस्थमा के होने के बहुत से कारण होते हैं ।  तो हम आपको उनमे से कुछ प्रमुख कारण बताएंगे ।


. वायुप्रदूष ( Air pollution )


asthma se bachav


 दमा रोग होने का सबसे बड़ा कारण हवा में फैली गंदगी ही  होती है ।
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हवा की गंदगी में बहुत से रासायनिक पदार्थ पाए जाते हैं जिसकी वजह से सांस फूलना , हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम होना , जहरीली गैसों की वजह से हमारा स्वास्थ्य गिरना ये सब बहुत आम बात है

के रासायनिक पदार्थ होने की वजह से हमे एलर्जी होना भी काफी हद तक संभव है। 

.  धूम्रपान, शराब पीना 



smoking causes asthma


यह भी एक महत्वपूर्ण कारण है इसकी वजह से भी हमारे शरीर का immunity system कमजोर होने लगता है और  हमारा शरीर बीमारियों का घर बन जाता है ।
जैसा कि शराब या सिगरेट में बहुत ज्यादा भारी मात्रा में नुकसान पहुचाने वाले रासायनिक पदार्थ होते हैं।
उनमे से कुछ पदार्थों से हमे एलर्जी हो सकती है ।





थायराइड का इलाज - Thyroid treatment in hindi



3-                            अस्थमा के लक्षण - 


. बलगम वाली या बिना बलगम के सूखी खांसी काफी दिनों तक रहना ।

. सांस फूलना या सांस लेने में दिक्कत होना ।
.  ठंढ बढ़ने के साथ साथ सांस लेने में दिक्कत का बढ़ना ।

. बोलने में कठिनाई या गले मे दर्द होना 



ये सब आम लक्षण है दमा के ।


4-                            अस्थमा में  बचाव 


अस्थमा दुनिया मे होने वाली उन बड़ी बीमारियों में से एक है ।
तो हम आपको बताएंगे कि अस्थमा में बचाव कैसे करें ।

. ठंढी  चीज़ो का सेवन कभी न करें - 


यह ठंढ के साथ साथ बढ़ने वाली बीमारी है अतः इसमे हमे ठंढी चीजो का सेवन नही करना चाहिए ।

Colddrink , icecream , ठंडे पेय पदार्थ ये सब हमे नही खाना-पीना चाहिए ।
hari sabjiyon ke labh damaa me


. हरि सब्जियों में है अस्थमा को नियंत्रित करने का राज -


हरी सब्जियों में बहुत से विटामिन्स, मिनरल्स, प्रोटीन्स बहुत चीजे पायी जाती हैं जो हमे बहुत लाभ पहुचाती हैं ।

गाजर और पालक का रस बहुत लाभदायक है दमा के मरीज के लिए ।


ओमेगा-3 फैटी एसिड भी लाभ करता है ।

अदरक ,मिर्च, लहसून , ये सब भी अपने खाने में जरूर शामिल करें।

. गर्म पानी है अस्थमा में लाभदायक 


पानी को गर्म करके पीने से सांस लेने की तकलीफ में काफी
राहत मिलता है और खांसी या कफ के जमा होने में भी यह लाभदायक है ।


शुगर ( मधुमेह, डायबिटीज) - Diabetes in hindi



                                     Asthma ke liye yoga 


इसमे 4 चरण में योग कराया जाता है 

1- योगासन

2- प्राणायाम

3-  षटकर्म

4- ध्यान 


ये 4 प्रमुख योगासन है दमा को ठीक करने के लिए ।

1-                                योगासन के लाभ दमा में -



yoga for asthma


जैसा कि हम सभी जानते हैं कि योगासनों से दमा ही नही बल्कि सारी बीमारियों का इलाज संभव है ।
यह हमारे शरीर को लचीला , फूर्त, स्वस्थ बनाता है ।
कुछ निम्न योगासन इस प्रकार हैं

. पवनमुक्तासन
. नावासन
. चक्र पादासान
.उत्तानपादासन 


2-                                               प्राणायाम -


  प्राणायाम लगभग सांस से मिलती जुलती हर बीमारियों का सफल उपयोग है । प्राणायाम में अस्थमा को काफी हद तक कम कर लेने का राज है । 

अस्थमा का इलाज केवल फेफड़ों को खोलना ही नही बल्कि फेफड़ो में से सूजन को हटाना भी है ।

और ऐसे कई सारे योगासन हैं जिनसे फेफड़ों के सूजन दूर किया जाता है । उनमे से प्राणायाम भी एक महत्वपूर्ण योगासन है ।

आप निम्न प्रकार के प्राणायाम कर सकते हैं ।

. सरल प्राणायाम
. अनुलोम - विलोम प्राणायाम
.  कपालभाति प्राणायाम


3-                   अस्थमा में षट्कर्म के लाभ -


षटकर्म जैसे योग में इतनी ताकत होती है कि मानव शरीर मे उत्पन्न होने वाले सभी सांस से संबंधित रोग और बलगम को जड़ से निकाल देता है ।
शरीर से बलगम निकाल देने के बाद फेफड़ो में ऊर्जा, सांस लेने में राहत और अस्थमा में होने वाली अटैक को रोका जा सकता है ।


छः योग के छः क्रिया को षटकर्म कहते हैं ।

4-                                ध्यान है दमा में लाभकारी -

Meditation के बहुत से लाभ है उन लाभो में ये भी एक है जिससे हमारा एकगत्र होने की क्षमता को बढ़ावा मिलता है ।
और हम इसमे सांस को एक उचित तरीके से छोड़ते और ग्रहण करते हैं जिससे यह सांस को नालियों में बहुत अच्छा परिणाम देता है जिसके फलस्वरूप हमे दमा में होने वाली कष्टों से दूर रखने में खुद को मदद मिलता है ।



              












Saturday, November 24, 2018

Top 5 best Seafood


Top 5 best seafood in Hindi


आज हम Top 5 best seafood in Hindi के बारे में बात करेंगे।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि seafood बहुत ही testy और बहुत ही लाभदायक होता है


Top 5 seafood in India तो वैसे तो seafood  हर जगह पाया जाता है लेकिन India में भी यह बहुत प्रचलित है ।

Seafood में  बहुत से item आते हैं  जो vitamins और minerals से भरे होते हैं साथ ही साथ इनमे iron की मात्रा भी बहुत अधिक होती है जो हमारेके शरीर की बहुत ही ज्यादा लाभ पहुचाती है ।



तो सबसे पहले हम जानते हैं कि seafood होता क्या है ।

What is seafood -





अगर आपसे कोई पूछे कि seafood क्या होता है तो ये निश्चित है कि आप उसे seafood का मतलब तुरंत बता दोगे
क्योंकि seafood के नाम का ही मतलब है कि समुद्री खाना ।

Top 5 best seafood







यह मिथ है कि seafood में सिर्फ  nonveg  ही आता है लेकिन जो इसका सेवन करते हैं उन्हें यह बखूबी पता है कि seafood में veg और nonveg दोनो ही भारी मात्रा में पाया जाता है ।

जब भी हम seafood का नाम लेते हैं तो हमारे दिमाग मे सबसे पहले मछली ,झींगा, कर्ब्स यही सब आता है ।

इसलिए हम आपको आज best seafood के बारे में बताएंगे ।

ज्यादातर लोगों का मानना है कि seafood सिर्फ चेन्नई, पुणे, बंगलोर, इन सब जगह ही मिलता है भारत  में लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है ।

आइये हम जानते है कि


Top 5 best seafood -


1- fish (मछली) -


fish seafood

  जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि भारत में मछली का एक अलग ही स्थान है । यह बहुत ही चाव से खाया जाता है ।
इसे फ्राई करके या तरी लगा के भी खा सकते हैं ।
हर जगह यह अलग अलग तरीकों से बनाया जाता है ।
भारत मे मछलियों की कई प्रजातियां पायी जाती हैं ।
मछलियों में भर भर के omega 3 ,protien, minerals ,multivitamins मिलते हैं ।


How to loss weight in hindi | जल्दी से वजन कैसे घटाएं


2- झींगा -


seafood


झींगा भारत के समुंद्री तटीय जगहों पर बहुत ही प्रमुख डिश मानी जाती है ।
 इसको भी फ्राई और तरी लगा के बनाया जाता है ।

तवा और  मसाला झींगा दोनो ही बहुत ही स्वादिष्ट व्यंजन होते हैं जिसे जैतून के तेल या सरसो के तेल में भूना जाता है ।
यह बहुत ही कम समय मे पक जाता है ।
 इसे भारतीय मसालों के साथ पका के बड़े ही  चाव से खाया जाता है ।

इसमे भी मछली की तरह vitamins, minerals, प्रोटीन, मिलता है और यह iron का भी अच्छा स्रोत है ।


3- केकड़ा -


kekda


 पूरे भारत मे ऐसी बहुत सी जगह हैं जहां पे केकड़ा बहुत ही मन से खाया जाता है चूंकि यह बहुत लाभकारी होता है इसलिए इसका प्रयोग डॉक्टर भी करने को बताते हैं ।
वैसे ये भारत मे हर जगह पाया जाता है ।
केकड़े का सूप बहुत ही ज्यादा testy होता है और इसे नारियल के साथ पकाते हैं ।

4- लॉबस्टर - 


seafood lawbuster


 यह भारत मे स्पेशल चींजों में बहुत मांग वाली चीजें हैं ।
मेरे कहने का मतलब है कि यह भारत मे  शादी , बारात , पार्टियों में बहुत खाया जाता है ।

यह हमारे Top 5 best seafood का बहुत ही प्रसिद्ध व्यंजन है।

लॉबस्टर एक seafood है जिसकी मांग दिन पर दिन बढ़ती जा रही है ।

इसे हम उबाल के या ग्रिल करके मसालो के साथ भी कहा सकते हैं ।

लॉबस्टर लंच के लिए सबसे ज्यादा parfect व्यंजन है ।



5 - ओएस्टर -


यह बहुत ही प्रसिद्ध व्यंजन है ।  ओएस्टर के प्रकार से तैयार किया जाता है । उबाल के , फ्राई करके , तरी लगा के कैसे भी आप इसे बना सकते हैं ।

भारत मे कई जगह घोंघा भी खाया जाता है और यह समुन्द्रों के आस पास ही नही बल्कि धान ,गेहू इनकी खेतों में भी पाया जाता है ।

तो ये रहे हमारे Top 5 best seafood जिनके बारे में हमने आपको बताया ।











Friday, November 23, 2018

How to loss weight in hindi | जल्दी से वजन कैसे घटाएं

आज हम आपको बताने जा रहे हैं

How to loss weight in hindi  तो हम आपको आसानी से वजन घटाने के कुछ तरीके बताएंगे

Weight loss tips से आपको बहुत आसानी होगी अपना बधा हुआ मोटापा कम करने में ।




Weight loss करने के लिए हमे खुद को उस तरह ढालना चाहिए ।  वजन घटाना बहुत ही आसान है
हम आगे बताएंगे कि

 how to loss weight।




 Weight बढ़ने का हिसाब - किताब  सीधा साधा है कि आप आपका diet-plan आपका खाने का हिसाब कैसा है ।
आप कितने calories लेते हो और कितने calories burn करते हो ।

अगर ज्यादातर calories हमारी शरीर मे बच जाती हैं या इक्कठा हो जाती हैं तो वह शरीर मे fat बढाने लगती हैं ।

जिससे हमारा शरीर मोटा होने लगता है ।

अगर आपको अपना weight loss करना है तो आपको सबसे पहले एक मानक तय करना होगा । जैसे कि
आपको पहले BMI निकालनी चाहिए ।


थायराइड का इलाज - Thyroid treatment in hindi

दरअसल BMI - BODY MASS INDEX है ।


यह बताता है कि आपके शरीर का वजन आपके उम्र , आपके लंबाई के अनुसार कितनी है और कितनी होनी चाहिए ।


जैसे -

  18.5 से  कम है तो - underweight
  18.5--25  है तो -     normal weight
25-29.9 है तो -        over weight
30 से ज्यादा है तो - obses (अधिक वजनी)




यदि आप obses या overweight हैं तो आपको अपना वजन कम करने की जरूरत है नही तो आपको शुगर , ब्लड प्रेशर, लिवर और तमाम तरह की बीमारियां होने का डर रहता है ।


वजन बढ़ने का कारण -


आम तौर पर weight gain यानी वजन का बढ़ना आपके खान पान और  आपके शरीरिक श्रम न करने की वजह से होता है ।

( अगर आपको कोई खास बीमारी नही है तो  वरना कुछ बीमारियों की वजह से भी हमारा वजन बढ़ने लगता है ।)

खान पान -



Weight बढ़ने का बहुत बड़ा कारण हमारा खान पान भी है
अक्सर हम बाजार से या पैक की हुई चीजें खाते हैं

अक्सर हम तली भुनी चीजे खाना ज्यादा पसंद करते हैं जो हमे अधिक calorie देते  हैं । हम ज्यादातर fast - food या बाहर का खाना खाते हैं जो हमारे शरीर मे अधिक fat को बढ़ावा देता है ।

एक सामान्य सी दिनचर्या वाले इंसान के लिए यह बहुत अधिक मात्रा में calories देता है  जो एक इंसान जो gym नही करता है yoga नही करता है उसके लिए fat का बढ़ना अधिक हो जाता है ।

शुगर ( मधुमेह, डायबिटीज) - Diabetes in hindi



शारिरिक श्रम कम करना -



आज के व्यस्त जीवन मे हर कोई इंसान yoga या gym या  खेल कूद उतना ज्यादा नही कर पाता जितना करना चाहिए ।

 शारीरक श्रम से हमारा शरीर फुर्तीला होता है । और  अगर आप दिन में एक घंटा शरीर श्रम या खेलकूद कर रहे हैं तो आप स्वस्थ रहोगे और बीमारियों से दूर रहने में मदद मिलेगी ।   हमे football , table- tennis , badminton ,cricket etc  ऐसे खेल दिन में कम से कम जरूर खेलना चाहिए ।



जब आप खाना खाते हैं या  कुछ भी खाते हैं तो आपको खेल कूद से भोजन जल्दी पचाने में मदद मिलेगा और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती जाएगी ।

और weight loss करने में आसानी होगी


अगर आप ये सब नही कर सकते हैं तो सुबह 30मिनट जरूर पैदल चलना चाहिए ।



Tips to lose weight in hindi
 वजन घटाने का तरीका



सुबह सुबह टहलें  morning walk-




अगर आपको वजन कम करना है तो आपको सुबह उठ के टहलने की आदत डालनी चाहिए । यह आपके शरीर को अत्यधिक ऊर्जा देगा और सुबह आपके भोजन पचाने  की क्षमता को बढ़ाता है  ।

सुबह टहलने से आपके शरीर की कई रोगों से छुटकारा मिलता है ।

यह आपको अधिक जवान दिखने में भी मदद करता है ।

आपको हर दिन कम से कम 30मिनट जरूर पैदल टहलना चाहिए ।



Water rich food खायें -


कई शोघ में यह पाया  गया है कि भारी खाने से वजन बढ़ता है और water rich food खाने से  हमारे शरीर मे पानी की मात्रा बढ़ती है जिससे हमारे शरीर मे fat नही बढ़ता ।

सुबह का नाश्ता जरूर करें -

 कुछ शोधों में यह पाया गया है कि सुबह का नाश्ता सही से करने से हमारे शरीर का metabolism बढ़ता है ।

सुबह का नाश्ता करने से हमारे शरीर को पोषण मिलता है । जिससे हम दिन भर ऊर्जावान रहते हैं ।

पर याद रहे कि नाश्ता भारी भरकम ना हो बहुत हल्का खाये जैसे ओट्स, दलिया, सलाद ये सब जरूर खाये ।



बाहर का खाना बंद करें -




बाहर के खाने में काफी मात्रा में fat होता है ।  हमे calories  बहुत अधिक मात्रा  में मिलता है । और यह हमारे शरीर मे fat को  बढ़ाता है ।  और यह वैसे भी नही खाना चाहिए बाहर का क्यूंकि यह बहुत नुकसान करता है हमारे शरीर को ।


Low - fat milk का प्रयोग करें -


हमे वजन अगर घटाना है तो full-cream milk को प्रयोग में लाना बन्द करना चाहिए और low- fat milk का ही प्रयोग करना चाहिए इसमे कम calories होती है ।


Dance - cardio join करें -




हमे dance या cardio जरूर करना चाहिए ।
इससे हम शरीर को और लचीला बना सकते हैं ।
हम जितना ज्यादा डांस करेंगे उतना  ही हमारे वजन को कम करने में मदद मिलेगी

What is Biotin | बायोटिन क्या है




Diet chart for weight loss  in hindi -



सबसे पहले  आपको सुबह उठ के 2-3 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए आपको चाहिए कि आप हल्का गर्म पानी पीएं ये आपके वजन कम करने में बहुत मददगार साबित होगी ।
वैसे ये आपकी अपनी पसदं भी है कि हल्का गर्म या सादा पानी ।


सुबह की चाय Morning tea -


जहां तक हो सके हमे दूध से बनी चाय से दूरी रखनी चाहिए । और green tea ( हरा चाय ) पीना चाहिए इससे वजन कम करने में सहायता मिलती है ।


सुबह का नाश्ता breakfast -



सुबह के नाश्ते में आपको हल्का और सेहतमंद चीजे खानी चाहिए ।
सुबह ओट्स, दलिया , जूस  ये सब आपको बहुत फायदेमंद होती हैं जिससे हमें प्रोटीन , विटामिन्स ,मिनरल्स आदि मिलते हैं   ।  हरी सब्जियां भी खा सकते हैं या आप चाहे तो ब्रोकली , सलाद ये सब खा सकते हैं इससे आपको ऊर्जा और ताकत भी मिलेगी ।


Lunch का खाना -


brown rice , दाल , रोटी , सलाद, बिना मसाले वाली हरी सब्जियां ,  अंडे , ब्रोकली , सलाद , फ्रूट जूस , मक्के की रोटी , पत्तेदार सब्जियां  ये सब हमे अपने दोपहर के खाने में लेना चाहिए  अगर हम संन्तुलित भोजन करना है और हमे अपना वजन घटाना है तो ।

Dinner रात का खाना -


 एक कटोरा वेग सूप , या कटोरा भर के सलाद , या सिर्फ 1,2 आंटे की रोटी  या कोई भी हरी सब्जी की जूस ।

अगर वजन घटाना है तो रात का खाना हमारे लिए बहुत ज्यादा मायने रखता है  हर हम भारी भोजन करते हैं तो रात के खाने के बाद हमे सोना होता है  तो हमारे शरीर की क्रिया कलाप काफी कम हो जाती है जिससे वजन बढ़ने लगता है ।

Special tips for weight loss वजन घटाने के लिये कुछ खास  टिप्स -


नीम्बू - शहद का प्रयोग -


सुबह खाली पेट अगर हम एक बहुत हल्के गर्म पानी मे एक चम्मच शहद और आधा कटा नीम्बू का रस मिला के पीने से हमारे शरीर मे से जमा हुआ फैट कम होने लगता है ।


प्रोटीन- फाइबर- विटामिन्स खाये -


हमे ऐसी चीजें खानी चाहिए जिसमें भारी मात्रा में प्रोटीन हो  अंडा , हरि सब्जी, चना , फल ,ये सब कुछ प्रमुख श्रोत हैं प्रोटीन के लिए ।

सुबह गर्म पानी का प्रयोग -


सुबह खाली पेट 2,3 गिलास पानी जरूर पीये इससे हमारे शरीर का extra fat हटेगा और toxins भी निकलेंगे


सूखे फलों का सेवन -




सूखे फलों में जैसे बादाम , अखरोट, काजू , किशमिश आदि में भर भर के प्रोटीन और विटामिन्स होते हैं ।


Exercise, cardio, gym करना -


अगर वजन घटाना है तो हमे exercise, gym, yoga जरूर करना चाहिए । जिससे हमारे शरीर को स्वस्थ होने में मदद मिलता है और वजन को भी तेजी से घटाने में सहायता मिलती है।


योगा से वजन घटाए -


हमे वजन घटाने के लिए हमारे पूर्वजों हमारे वेदों द्वारा दी गयी अनमोल रतन योगासन जरूर करना  चाहिए ।

अनुलोम - विलोम , तैराकी , crunches , कपालभाति , मयूरासन आदि कुछ प्रमुख योगासन है वजन को घटाने के लिए ।





नोट - वजन ऐसे घटाना चाहिए जिससे कि आपको कमजोरी न लगे और ताकत भी बढ़े ।



















Wednesday, November 21, 2018

अश्वगंधा के फायदे और नुकसान | Ashwagandha benefits & side effects in hindi

 हेलो दोस्तों

आज हम आपको बताएंगे  एक ऐसी जड़ी बूटी जिसका नाम है अश्वगंधा । आज हम आपको अश्वगंधा के फायदे और नुकसान बताएंगे ।


अश्वगंधा खाने का तरीका , अश्वगंधा के फायदे , अश्वगंधा के नुकसान, अश्वगन्धा किसको कितना लेना चाहिए  सबकुछ। ।


डर्मारोलर से बाल उगायें । Darmaroller for hair regrowth


तो चलिए देखते हैं कि

अश्वगन्धा क्या है ( What is Ashwagandha)




 हमारी धरती पर प्रकृति के द्वारा कई सारी चीजें प्रदान की गई हैं जो हमे कई मामलों में लाभ पहुँचाते हैं ।

अश्वगन्धा एक पौधा होता है जिससे हम औषधि बनाते हैं।
इसका जड़ से एक ताना तक
पत्तो से लेके फूल तक हर चीज का औषधि बनता है ।
धरती पे पाए जाने वाले  उन बहुमूल्य चीजो में से एक है अश्वगन्धा जिसका प्रयोग हम 100% तक कर सकते हैं ।

यह किशमिश के आकार का लाल फल देता है ।

यह हल्के जलवायु वाले जगह पे आराम से उगाया जा सकता बौ ।

अश्वगन्धा के फायदे ( Benefits of Ashwagandha)


 अश्वगन्धा के तो बहुत से फायदे हैं  ।
हमारे  वेदों के अनुसार अश्वगन्धा एक ऐसी औषधि है जो  मन जाता है कि  हमारे  शरीर में घोड़े जैसी ताकत डाल सकती है

यह बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है । यह एक वरदान से कम नही है ।

. अश्वगन्धा हमारे शरीर मे रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है ।
. अश्वगन्धा हमारे शरीर  में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है ।
. यह एक  मलेरिया विरोधी औषधी है ।
. यह महिलाओं और पुरुषों में यौन शक्ति बढ़ाता है ।
. अश्वगन्धा हमारे शरीर में शुक्राणु की संख्या बहुत जल्दी बढ़ाता है ।
. यह हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है ।


शुगर, डायबिटीज़ मधुमेह कैसे ठीक करें । Control diebetes in few days

यह  इसका प्रमुख लाभ है ।
तो चलिए हम जानते हैं कि और क्या क्या प्रमुख लाभ है ।

अश्वगन्धा का लाभ पुरुषों के लिए - ( Benefits of Ashwagandha for man )




 पुरुषों के लिए अश्वगन्धा को बहुत ही ज्यादा लाभकारी  होता है ।
पुरुषों में शुक्राणु की संख्या को बहुत जल्दी बढ़ाता है।
यह पुरुषो के  शारीरिक थकान, कमजोरी को दूर करता है ।
 और यह चिंता को भी कम करता है।

अश्वगन्धा का लाभ टेस्टोस्टेरोन को बढाने के लिए - (Benefits of Ashwagandha for increase Testosterone level )




अश्वगन्धा में पाए जाने वाले तत्व टेस्टोस्टेरोन लेवल को भी बढ़ाता है । यह बहुत ही अच्छा और बहुत ही उपयोगी होता है जो पुरुषों के शरीरिक संबंध की क्षमता को बढ़ाने में बहुत मदद करता है । अश्वगन्धा एक सेक्स हॉर्मोन है जिसकी मात्रा कम हो जाने पर  खास तौर से पुरुषों में शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा कम हो जाती है । तो अश्वगन्धा हमारे टेस्टोस्टेरोन लेवल को बढ़ा के शरीर मे क्षमता को बढ़ाता है।

 अश्वगन्धा का उपयोग वजन बढ़ाने के लिए - ( Use of Ashwagandha for weight gain)



जो लोग दुबले पतले हैं उनके लिए अश्वगन्धा बहुत ही ज्यादा उपयोगी साबित होता है ।
यह हमारे शरीर मे भूख लगने की क्षमता को बढ़ाता है । इसके उपयोग से  हमारा शरीर हमारे द्वारा खाये गए भोजन को बहुत अच्छे से पचाता है जिसके फलस्वरूप हमे खुल के भूख लगती है और हमे अच्छे से  खाने पीने के लिए प्रेरित करती है ।

अश्वगन्धा का उपयोग बॉडी बिल्डिंग में - ( uses of Ashwagandha for Body Building)





जब हम जिम जाते हैं तो हमारे शरीर को ज्यादा से ज्यादा न्यूट्रिशन की जरूरत होती है और अश्वगन्धा इसकी कमी को पूरा करता है ।  हमारे भोजन को पचाता है और हमारे मांशपेशियों को मजबूत बनाता है ।
हमारे हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है ।
 अच्छे अच्छे बॉडी बिल्डर अश्वगन्धा का प्रयोग जरूर करते हैं ।


अश्वगन्धा का  उपयोग लंबाई बढ़ाने में - ( uses of Ashwagandha for incressini height )


अश्वगन्धा लंबाई बढ़ाने में भी लाभकारी है।

शाम को सोते समय एक गिलास दूध में छोटा चम्मच से आधा चम्मच अश्वगन्धा चूर्ण मिलाके पीने से  40-45 दिन में लम्बाई बढ़ने के आसार होते हैं ।



अश्वगन्धा का फायदा आंख की रोशनी बढ़ाने में - benefits of Ashwagandha in eye problems)


अश्वगन्धा , आंवला , मुलेठी  इन  तीनो  को समान मात्रा में मिला के चूर्ण बनाके खाने से आंख की रोशनी बढ़ती है ।


अश्वगन्धा का लाभ सेक्स पावर बढाने के लिए - ( ashwaAshwag for sex power)




अश्वगन्धा के सेवन से हमारा वीर्य काफी गाढ़ा बनता है जो हमारे सेक्स करने की समय को बढ़ाता है   और वीर्य की गुडवत्ता को भी बढ़ाता है । सेक्स करते समय आने वाले जल्दी थकान को भी दूर रखता है ।

 इंफेक्शन दूर करने के लिये अश्वगन्धा के उपयोग - ( Ashwagandha for infection) 


जैसा कि हम जानते हैं यह पुरुषों के लिए बहुत लाभकारी है ठीक वैसे ही यह महिलाओं के लिये भी बहुत लाभदायक है ल
यह एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल दोनो होता है ।

महिलाओ में सूजन होना आम बात है और
महिलाओ के गर्भाशय में हुए सूजन को भी कम करता है ।
जिन महिलाओं के योनि से सफेद चिपचिपा पदार्थ निकलता है उनके लिए अश्वगन्धा बहुत ही लाभकारी है ।


अश्वगन्धा का लाभ  जवान दिखने में , त्वचा के लिए - ( Ashwagandha for look younger)




अश्वगन्धा के प्रयोग से  हमारी  त्वचा बहुत अच्छे से टाइट और चमकदार हो जाती है  जिससे हम जवान दिखने लगते हैं । यह हमारे त्वचा की झुर्रियों को दूर करता है ।

Hair transplant । बालों का प्रत्यारोपण की पूरी जानकारी

हमारे बालों के लिये भी ये काफी फायदा करता है ।

बालों को काला , घना, और मोटा बनाता है ।

हमारे बालों को झड़ने से बचाता है ।

इसके सारे लाभ बता पाना मुमकिन नही है  बाकी मैंने कुछ महत्वपूर्ण फायदे आपको बता दिया हूँ ।




 अश्वगन्धा में क्या क्या पाया जाता है - ( ingredients in Ashwagandha)



इसमे कई उपयोगी रसायन शामिल होते हैं ।

फैटी एसिड
एमिनो एसिड
ऐलकिलाइड
कोलिन
थेनॉलिड ( स्टेरॉइड लैक्टोन)
शर्करा
मल्टीविटामिन्स


आदि ये सब प्रमुख  रसायन हैं जो अश्वगन्धा में पाए जाते हैं।


अश्वगन्धा के नुकसान - ( side effects of Ashwagandha)


जिस तरह हमें अश्वगन्धा से बहुत से फायदे होते हैं उसी तरह इससे कुछ नुकसान भी होते हैं ।
वैसे तो  इसका कोई खास नुकसान नही होता है लेकिन  फिर भी हम आपको इसके कुछ नुकसान बताने की कोशिश करेंगे ।

1- गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए ।
2- इसके ज्यादा सेवन से  इंसान को अधिक नींद आती है ।
3- बुखार में इसके सेवन से  बुखार में खाने वाली दवा का असर कम हो सकता है ।
4- यदि आपको कोई बीमारी है और आपका दवा चल रहा है तो आपको अश्वगन्धा का सेवन नही करना चाहिए क्योंकि यह दवाओं के असर को कम कर देता है ।
5- कोई महिला अगर स्तनपान कराती है तो उसे भी इसका सेवन नही करना चाहिए ।
6- जिनको अल्सर की समस्या हो उनको इस्तेमाल सुबह या खाली पेट नही करना चाहिए ।
7- ज्यादा मात्रा में खाने से आपको त्वचा में खुजली और  लाल चत्तके की तरह शरीर पर पड़ सकता है ।



अश्वगन्धा का सेवन कैसे करें - ( how to use Ashwagandha)


अश्वगन्धा  बाजार में चूर्ण और कैप्सूल की के  रूप में मिलता है ।

अगर हम इसका सेवन चूर्ण के रूप में कर रहे तो
12-18  साल के लोगो को छोटे चम्मच से आधा चम्मच दिन में 1-2 बार ।

18-45 साल के लोगो को एक छोटा चम्मच  दिन में एक बार ।
45+  साल के लोगो को छोटे चम्मच से आधे से कम चूर्ण खाना चाहिए ।


अगर आप कैप्सूल् के रूप में कर रहे हों तो एक कैप्सुल एक दिन में खाएं ।


नोट - 2 महीने लगातार सेवन करने के बाद 1 महीने के लिए अश्वगन्धा का प्रयोग न करें ।
हर 2 महीने इसका सेवन करने के बाद 1 महीने का गैप जरूर करें ।


 अगर आप चूर्ण के रूप में इसको ले रहे हैं तो  दूध के साथ या  हल्का गर्म पानी के साथ इसका प्रयोग करें ।


मैंने लगभग सभी चीजें बता दी हैं लेकिन अगर  आपको कुछ भी पूछना हो या कोई भी समस्या हो तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

धन्यवाद ।









Wednesday, October 17, 2018

थायराइड का इलाज - Thyroid treatment in hindi

   थायराइड  -   Thyroid in hindi



थायराइड एक ग्रंथि होती है जो गले के ठीक सामने रहता है।
यह ग्रंथि  आपके शरीर के मेटाबॉलिज़्म को नियंत्रण करती है




 यानी जो भोजन हम खाते है यह उसे ऊर्जा में बदलने का कार्य करता है।

उसके अलावा यह आपके हृदय , मांशपेशियों, हड्डियों व कोलेस्ट्रॉल को भी प्रभावित करता है।

थायराइड को साइलेंट किलर भी कहते हैं।
क्योंकि इसके लक्षण एक साथ नहीं दिखते हैं।

. थायराइड की समस्या पिट्यूटरी ग्रंथि के कारण भी होती है।
. रजोनिवृति में असमानता भी थायराइड का कारण बन सकता है।
. थायराइड से ग्रस्त मरीजो को  थायराइड फंक्शन टेस्ट कराना चाहिए।






थायराइड के कारण - thyroid causes in Hindi


. थायराइड कई कारणों से हो सकता है। इनमे से ये प्रमुख हैं।

1- थायराइडिस् - यह सिर्फ एक बढ़ा हुआ थायराइड ग्रंथि है, जिसमे थायराइड हार्मोन बनाने की क्षमता कम हो जाती है।

2- सोया उत्पाद -  एसोफ्लेवोन् गहन सोया प्रोटीन, कैप्सूल और पाऊडर के रूप में सोया उत्पादों का जरुरत से  ज्यादा प्रयोग भी थायराइड होने के कारण हो सकते हैं।

3- दवाएं - कई बार दवाओ के प्रतिकूल प्रभाव ( साइड इफ़ेक्ट) भी थायराइड की वजह हो सकती है।

4- हैपोथैल्मिक  रोग - थायराइड की समस्या पिट्यूटरी ग्रंथि के कारण भी होती है क्योंकि यह थायराइड ग्रंथि हार्मोन्स  को उत्पादन करने के संकेत नही दे पाती।

5-  आयोडीन की कमी - आयोडीन की कमी से भी थायराइड हो सकता है।

6-  तनाव -  जब तनाव ज्यादा होने लगता है तो हमारे थायराइड ग्रंथि पे असर पड़ता है। यह ग्रंथि हार्मोन्स के स्तर को बढ़ाता है।

7- ग्रेव्स रोग - ग्रेव्स रोग थायराइड होने का सबसे बड़ा कारण है। इसमें थायराइड ग्रंथि से थायराइड हार्मोन्स  का स्त्राव बहुत बढ़ जाता है। ग्रेव्स रोग ज्यादा टार 20-45 के उम्र के बीच की महिलाओ को  होता है।
ये रोग अनुवांशिक भी हो सकता है और एक ही परिवार के कई लोगो को प्रभावित कर सकता है।

8- रजोनिवृति- यह भी थायराइड का कारण है क्योंकि महिला में कई प्रकार के हार्मोनल परिवर्तन होते हैं जो कई बार थायरायड के स्तर को बढ़ा देते हैं।







थायराइड के लक्षण -  thyroid symptoms in hindi


थायराइड की वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कम हो जाती है।


थायराइड के सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं-


. जल्दी जल्दी थकान होना।
.शरीर सुस्त रहना।
.थोडा मेहनत करते ही ऊर्जा की कमी लगना।
.डिप्रेशन में जाने लगना।
.जोड़ो में दर्द होना।
.मांसपेशियों में दर्द रहना।
.याददाश्त कमजोर होना।


थायराइड ग्रंथि क्या है - what is thyroid gland


थायराइड कोई रोग नहीं है बल्कि एक ग्रंथि का नाम है जिसकी वजह से ये रोग होता है।
दरअसल थायराइड गर्दन के नीचे हिस्से में पाई जाने वाली क इनडोक्राइन ग्रंथि है।
थायराइड ग्रंथि का नियंत्रण पिट्यूटरी ग्लैंड से होता है जबकि पिट्यूटरी ग्लैंड को हाइपोथेलेमस कंट्रोल करता है।
ये दो प्रकार के हार्मोन्स बनाती है।

एक टी3 जिसे ट्राई-आयोडो-थायरोनिन  कहते  हैं।
दूसरी टी4 जिसे थायरोक्सिन कहते हैं।

जब थायराइज से निकलने वाले ये दोनों हार्मोन जब असंतुलित होते हैं तो थायराइड की समस्या हो जाती है।




थायराइड का परीक्षण - Diagnosis of thyroid in hindi


फिजियोलॉजी -  थायराइड ग्रंथि से हैपोथालेमस, पिट्यूटरी2 ग्रन्थियां और थायरॉइड सभी मिलकर थायरोक्सिन और ट्राइआयोडोथाइरोनाइन के निर्माण में सहयोग करते हैं।

थायराइड को उकसाने वाले हार्मोन थायराइड से टी3 और टी4 को छोड़ते हैं। थायरोक्सिन या टी4  थायराइड से निकलने वाला प्रमुख हार्मोन है।

फिजियोलॉजी के जरिये इन हार्मोन्स की जांच की जाती है जिससे थायराइड का पता चलता है।


स्क्रीनिंग - इसके जरिये थायराइड के मरीज का पूरी तरह से जांच संभव तो नहीं है लेकिन कुछ मामलो में फायदा भी करता है जैसे  जन्मजात मरीज और बच्चों की स्क्रीनिंग जांच से थायराइड का पता चलता है और मधुमेह रोगियो में स्क्रीनिंग से थायराइड का जांच होता है।





थायराइड फंक्शन टेस्ट ( टी फ टी )


थायराइड के मरीज के किये थायराइड फंक्शन टेस्ट किया जाता है।  इससे यह निश्चित हो जाता है की मरीज हैपोथायराइड है या हायपरथायराइड ।
 इस जांच से टीएसएच सीरम की संवेंदशीलता का पता चलता है।





थायराइड का इलाज - thyroid treatment in hindi


रेडियोएक्टिव आयोडीन ट्रीटमेंट -  थायराइड के मरीज को रेडियोएक्टिव आयोडीन दवाई या लिक्विड के द्वारा किया जाता है।
इस उपचार के द्वारा थायराइड की ज्यादा सक्रिय ग्रंथि को काटकर अलग किया जाता है।
इस थेरेपी से 8-12 महीने में थायराइड समाप्त हो जाता है।


सर्जरी - सर्जरी के द्वारा आंशिक रूप से थायराइड ग्रंथि को निकाल दिया जाता है, जो कि बहुत सामान्य तरीका है।
थायराइड के मरीजो में सर्जरी के द्वारा उसके शरीर से थायराइड के उत्तकों को निकाला जाता है जो की ज्यादा थायराइड हार्मोन पैदा करते हैं।

प्रेग्नेंट महिलायें और बच्चे जो थायराइड की दवाओ को बर्दाश्त नहीं कर सकते उनके लिए सर्जरी उपयोगी है।




एंटीथायराइड को कैसे कंट्रोल करे - tips for control thyroid


थायराइड संबंधी सभी समस्याओ से बचना आसान तो नहीं, लेकिन खानपान के जरिये इससे होने वाली समस्याओ को नियंत्रित किया जा सकता है।

थायराइड ग्रंथि को उचित आयोडीन से ठीक रखा जा सकता है।
पत्ता गोभी, फूल गोभी और शलगम आदि से दूर ही रहें  क्योंकि घेंघा बनने की संभावना होती है।



थायराइड कम करने के घरेलु उपाय - home remedies for thyroid in hindi



फ़ास्ट फ़ूड ( fast food ) - थायराइड होने पर तला , भुना, तेल, मसाले, बहुत कम खाने चाहिए। वरना दवाई का असर कम हो जाता है।

चीनी ( sugar) - ज्यादा मीठा खाने से बचे , चीनी का सेवन कम करें।

काफी ( coffee) - काफी में मौजूद एपिनेफ्रिन और नोरेपीनेफ्रिन थायराइड को बढ़ावा देते हैं।

गोभी - ( carli flower) - इसमें बन्दगोभी और ब्रोकोली खाने से भी बचें।

सोया -( soya) -  इसका प्रयोग कम करना चाहिए लेकिन मजबूरी में खाने के 4 घंटे बाद खा सकते हैं पर कम।